Story Hindi language अपने जीवन में हर किसी को एक बार प्यार  जरूर हाेता है,लेकिन वह अक्सर  one sided love  हाेता है… लेकिन इसका भी अपना एक मजा हाेता है.

 

 

 

हर समय अपने प्यार को  पा जाने की उम्मीद और उस उम्मीद से हाेती खुशी काे बयां कर रहा हूँ अपनी इस कहानी  One sided sad love story in hindi  में….

 

 

 

चंदन राठाेर गाेरा चेहरा, खूबसूरत स्टाइलिस बाल, ब्रांडेड चश्मा लगाये बुलेट से आफिस जा रहा था कि अचानक जाम में फस गया.
अमूमन इस रास्ते पर कभी जाम नही लगता फिर आज कैसे लग गया.

Story Hindi Mein

चंदन मन ही मन साेच रहा है क्योंकि उसे आज आफिस जल्दी पहुंचना है. आफिस का सारा काम निपटाकर उसे अपने परम मित्र बिपिन के घर जाना है और उसकी   birthday party  में शरीक हाेना है.

इस उढेडबुन मे जाम कब खत्म हो गया उसे पता ही नहीं चला ..जब पीछे से तमाम गाडियों की टीं टीं….पी -पी की आवाजें और लाेगाें के शाेर ” जाम खत्म हो गयाे भाई, साे गया क्या, अरे गाडी निकालाे “सुनाई दी, तब चंदन की साेचनिद्रा टूटी.

 

 

 

story hindi Written

 

 

 

 

उसने फटाफट गाडी स्टार्ट की और जैसे ही आगे निकला कि स्कुटी पर बैठी एक लड़की उसकी तरफ देखकर मुस्कराते हुये और ऐसा रियेक्ट करते हुये कि “कहा खो गये थे” आगे निकल गयी और चंदन उसे अवाक सा देखता रह गया.लेकिन फिर वही गाडियों के शाेर उसकी साेच काे भंग किये और वाे आगे निकला.

 

 

 

वह लड़की उसके दिलाे- दिमाग पर छा गयी थी… वह  पूरे रास्ते सिर्फ उसके ही बारे में साेचता रहा. चंदन आफिस पहुँचा.. फटाफट अपने काम निपटाने लगा… लेकिन उसका मन नही लग रहा था… वह बस उसके बारे मे ही साेच रहा था कि ” काैन थी वो “.

एकतरफा प्यार की बेहतरीन हिंदी कहानी

किसी तरह काम निपटाकर वह बिपिन के घर गया… बिपिन चंदन का लंगाेटिया यार है.बिपिन चंदन काे देखते ही भडक गया .”अभी आ रहा है तू… तुझे मैने सुबह मे ही बुलाया था… अपने  दोस्त की बात नहीं मान सकता तू”.”अरे… अरे.. शान्त -शान्त.. मेरे  birthday boy मिस्टर बिपिन रॉय.

 

 

 

कृपया  शान्ति बनाये…. राेज ताे तू डाटते ही रहता है कम से कम आज ताे बख्श दे”…चंदन बाेला…फिर दानाे हंसते हुये गले मिले. तभी  घर के बरामदे में वही लड़की दिखी… एकदम वही चेहरा वही नैन -नक्श और वैसे भी जब One sided sad love story in hindi  हाेता है ताे चेहरा उस समय की हर चीज़ याद रहती है.

 

 

 

 

Short Stories in Hindi With Moral / विश्वास ही सबसे बड़ी भक्ति है हिंदी कहानी

 

 

 

अबे साले छाेड…. क्या कर रहा है ….दाेस्त हूं तेरा..  Girlfriend  नहीं, जाे तू इतना  tight hug  कर रहा है… बिपिन बाेला. तब चन्दन की नजर हटी और उसने बिपिन से तपाक से बरामदे की ओर उंगली दिखाते हुए बाेला “वाे काैन है”.

चप्पल से मारूंगा तुझे… याददाश्त चली गई है क्या तेरी….क… क… क्या हुआ… काै… काैन है वो… बिपिन की बात काटते हुये और थाेडा घबराते हुये चंदन बाेला.

 

 

 

क्या.. क्या हुआ.. मां है मेरी और तेरी आन्टी… बिपिन थाेडा गुस्सा दिखाते हुए बाेला. अरे बेटा चंदन.. कब आया.. आ जा नाश्ता पानी कर ले…. बिपिन की मां (सरला देवी) ने चंदन से कहा.
चंदन ने उनकी तरफ देखा और बाेला हां आन्टी अभी आया…” Thank god  ….मैं ताे डर ही गया था ” साेचते हुये चंदन दाैडकर बरामदे में गया…उसने सरला देवी काे प्रणाम किया.

Story Hindi meaning

देखा मां… पेटू काे… खाने के टाइम पर आया और खाने के नाम पे दाैडकर भागा…. और तुझे बाेलता है कि ” काैन है ये “……बिपिन अपनी माँ से थाेडा इठलाते हुये बाेला.

चल जा.. अपना काम कर… जब से आया है बेचारे काे परेशान ही कर रहा है… सरला देवी ने बिपिन काे डाटते हुये बाेली.ठीक है मां… बिपिन ने चंदन की ओर देखा… और चंदन उसे चिढ़ाते हुये हाथ से जाने का इशारा किया..

 

 

 

 

कहानी इन हिंदी फॉर चाइल्ड / अकबर बीरबल की मजेदार हिंदी कहानियां

 

 

 

बेटी रचना… चंदन के लिए नाश्ता ले आना ताे… कहती हुयी  सरला देवी कुछ काम से चली गयीं.चंदन अपने मोबाइल  पर.  News  पढने लगा.
मि. पेटू… लिजीये नाश्ता… चंदन ने जैसे ही उपर देखा वही मुस्कराता हुआ चेहरा दिखा. ओह! मिस. रचनाकार…ओह! सारी… मिस. रचना जी…  Thank god  चलिये आपका नाम ताे पता चला.
वह और बहुत सारी बातें करना चाहता था कि तभी सरला जी ने फिर रचना काे बुला लिया,और वाे मुस्कराते हुये चली गई. चंदन उसे प्यार करने लगा था…. लेकिन उसे शायद यह नहीं पता था कि सिर्फ  happy beginning  है.

 

 

 

One sided sad love  की यही ताे खासियत है.. वह हर लम्हे मे उम्मीद ढूँढ लेता है. चंदन बिपिन के घर के सदस्य की तरह था.. और वह मेहमान बनकर नही आया था साे वह घर के कामाे मे  busy  हाे गया… लेकिन उसकी निगाहें हर पल बस रचना काे ढूढती रही.

 

 

 

शाम का समय हाे गया है. सारे मेहमान आ गये हैं. केक काटने का समय भी हो चुका है. सब एक दूसरे से बातें कर रहे हैं और चंदन की निगाह बस रचना काे ढूँढ रही हैं.

 

चंदन मन ही मन साेच रहा था कि सारे मेहमान आ गये…..केक काटने का समय हाे गया है… बिपिन भी आ गया है.. ताे फिर रचना कहा है… सब ठीक तो है न… वह बढकर बिपिन से पूछने ही वाला था कि.. सरिता देवी ने लाेगाें काे संबोधित करते हुये कहा कि आज बिपिन का  23वां जन्मदिन है.
आज बिपिन 23 साल का हाे गया… अब मैं अपनी जिम्मेदारी से मुक्त हाेना चाहती हूँ… मैने बिपिन के लिए लड़की ढंूढ ली है और वाे इसी महफिल में है.
सब एक दूसरे को देखने लगे. सब  surprised  थे….. तब सरिता देवी ने कहा कि उसका नाम रचना है… तालियाें की गडगडाहट से पूरी महफिल गुन्जायमान हाे गयी… लेकिन चंदन पुरी तरह टूट गया… उसे अब भी भराेसा नहीं हो रहा था.. वह रचना की तरफ देखा.. वह बहुत खुश लग रही थी.
चंदन काे इस बात का एहसास हो गया था कि यह  one sided love  था…. तालियां अब भी बज रही थीं…. चंदन चुपके से वहां से निकल गया… शायद अब उलके लिए वहां कुछ नहीं रह गया था… वह सीधा अपने आफिस पहुँचा… रात पूरे अपने शबाब पर थी… हल्की हल्की बूंदे गिर रही थीं… मानो ऐसा लग रहा था कि चंदन के साथ सारा आसमान राे रहा हाे.
2- Story Hindi Short  यह भीगा भीगा माैसम और तेरी याद में आखाें से बहता पानी.. दाेनाे तन मन में आग लगा रहे हैं… आपके जाने के बाद यह सूनापन यह खालीपन मुझे अन्दर ही अन्दर खाये जा रहा है़.
ना दिन में चैन है ना ताे राताें में नीद… आखिर कहा चले गये तुम… ना काेई चिठ्ठी ना काेई संदेश… क्या तुम्हें मेरी याद नही आती… क्या वाे प्यार वाली बाते याद नही आती.
जब हम और तुम हाथाें मे हाथ डाले इन्ही फूलों की क्यारियाें मे अठखेलियाँ करते थे… आज वही फूल हैं वही क्यारियां… बस नही है ताे वह रंग.. वह खुशबू.. वह उमंग.

Story Hindi kids

तुम्ही ताे मेरे सब कुछ थे.. मेरा रूप, मेरा रंग, मेरी उमंग, मेरी हंसी, मेरी खुशी, मेरा मान सम्मान… तुम नही ताे मैं कुछ नही…. तुम्हारे बिन मैं वैसे ही तड़प रही हूं.. जैसे जल बिन मछली.
तुम्हारे बिना बिना यह रूप श्रृंगार कुछ अच्छा नही लगता… मुझे खूब अच्छी तरह याद है जब मैं सज धज कर इठलाते हुये आपके सामने आती थी और आप प्यार से मेरे माथे काे चूम लेते थे…. लेकिन अब किसके लिये सजना, मेरा सजना ताे परदेस में है.

बड़ा जालिम है… इतने बरस बीत गये…लेकिन काेई सुध ना ली… फिर से बैरी सावन आ गया…..हर ओर हरियाली छायी है…लेकिन मेरे जीवन मे वही सूखापन…. सारा छाेर खुशियाें से इठला रहा है… लेकिन मेरा मन विरह वेदना से व्यथित है. सारी सखिया रिमझिम फुहाराें का आनंद लेती हुयी अपने प्रियतम के साथ झूला झूल रही है… और एक मैं बिरह से व्याकुल अपने प्रिय की राह देख रही हूं.

 

 

 

आग लगे उस मनहूस समय काे जब मेरे हमराह परदेस गये… दिन तो किसी तरह बीत जाता है… बैरन रात ताे बहुत तड़पाती है… हर पल बस आपकी याद आती है… याद के सिवा और है क्या मेरे पास… उसी याद के सहारे जी रही हूं….रात भर उठ उठ कर आपके फाेटाे काे निहारती हूं.
हर आहट पर दिल की धड़कन बढ़ जाती है….आपके बिन मेरी यह जिंदगी रेगिस्तान बन गयी… इस रेगिस्तान में सावन की तरह बरस जाओ….. आ जाओ… प्रियतम मेरे घर आ जाओ.
मित्रों यह Story Hindi Love आपको कैसी लगी जरूर बताएं और Story Hindi Written की तरह की दूसरी कहानी नीचे की लिंक पर क्लिक करें और इस Story Hindi Pdf को शेयर भी करें।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *