Hindi Stories For Children Written / तीन मछलियों की हिंदी कहानी

Hindi Stories For Children एक सरोवर में तीन दिव्य मछलियां रहती थीं। उस सरोवर की अन्य मछलियों की इन तीनों मछलियों के प्रति काफी श्रद्धा थी।

 

 

 

एक मछली के पास ज्ञान का असीम भण्डार था। वह बहुत सारे शास्त्रों का ज्ञान रखती थी।  दूसरी मछली सिर्फ उतना ही सोचती थी जीतनी उसको आवश्यकता रहती थी।

 

 

 

hindi-stories-for-children-pdf

 

 

 

 

तीसरी मछली ना तो ज्यादा ज्ञानी थी और ना ही अधिक सोचती थी।  वह जैसा मौक़ा होता था वैसा निर्णय लेती थी। एक दिन की बात है कुछ मछुआरे सरोवर के तट पर आये और उन्होंने देखा कि सरोवर में बहुत सारी मछलियां थीं। यह देखकर उन्होंने आपस में बात करते हुए कहा, ” इस सरोवर में बहुत सारी मछलियां हैं।  सुबह आकर  सरोवर में जाल डालेंगे। ”

 

 

 

Hindi Stories For Children To Read

 

 

 

यह कहकर तीनों चले गए।  उनकी बाते तीनों मछलियों नई भी सुनी। इस पर ज्ञानी मछली, ”  हमें फ़ौरन यह तालाव  चाहिए और कहीं दूसरी  चले जाना चाहिए। ”

 

 

 

दूसरी मछली ने कहा, ”   नहीं, हमें अभी नहीं जाना चाहिए।  हमारे पूर्वज ठण्ड के दिनों में यह जगह छोड़ते थे।  यह परंपरा वर्षों से चली आ रही है।  हमें इसका ध्यान रखना चाहिए। ”

 

 

 

 

तीसरी मछली हँसते हुए बोली, ” तुम लोग बेवजह चिंता कर रहे हो।  ऐसा कुछ भी नहीं होने जा  है।  गरजने वाले बादल बरसते नहीं हैं और अगर ऐसा हो भी गया और मछुआरे आ भी गए तो हम पानी के तलहटी में जा कर बैठ जाएंगे  या फिर पूंछ से जालों को फाड़ देंगे। इस समय अपना घर छोड़कर परदेश जाना उचित नहीं होगा। ”

 

 

 

 

इसपर पहली मछली ने कहा, ” ठीक है, जैसा आप लोग  उचित समझें।  मगर मेरा यह मानना है कि जब दुश्मन मजबूत हो और हम लड़ पाने में सक्षम ना हों तो वहाँ  से हट ही जाना उचित होता है। ”  यह कहकर वह  अनुयायियों को लेकर चली गयी।

 

 

 

दूसरी और तीसरी मछली वहीँ पर रुक गयी। अगले  दिन मछुआरे पूरी तैयारी से वहाँ पहुँच गए और उन्होंने सरोवर में जाल डाला और जाल में बहुत सारी मछलियाँ फंस गयी और उसमें वह दोनों मछलियां भी फंस गयी।

 

 

 

 

जब मछुआरे उन दोनों मछलियों को गाडी में डाल रहे थे तब पहली मछली दूर से उन्हें देख रही थी और उसने गहरी सांस लेते हुए कहा, ” इनकी सोच ने ही इनको धोका दिया।  अगर उन्होंने सही सोच राखी होती तो शायद वह जरूर बच जाती। ”

 

 

 

 

Moral –  इस कहानी से हमें यही सीख मिलती है कि मुसीबत का पता चलते ही हमें उसके बारे में  विस्तार से सोचना चाहिए और अपनी व्यवहारिक बुद्धि से परिस्थिति का सामना करना चाहिए। 

 

 

 

2-  एक बार एक नौजवान ने सुकरात से पूछा, ” सफलता का क्या रहस्य है ? ”

 

 

 

इसपर सुकरात ने उस लडके से कहा, ” कल तुम मुझे नदी किनारे मिलो। ” इसके बाद अगले दिन वो दोनों नदी किनारे मिले। उसके बाद सुकरात और नौजवान नदी की तरफ बढ़ने लगे।

 

 

 

 

आगे बढ़ते – बढ़ते पानी उनके गले तक पहुँच गया, तभी अचानक से सुकरात ने उस लडके का सर पकड़ के पानी में डुबो दिया।  नौजवान बाहर निकलने के लिए संघर्ष करने लगा।

 

 

 

लेकिन सुकरात ताकतवर थे।  उन्होंने उसे कुछ देर और भी डुबोये रखा और फिर उसे बाहर निकाल दिया।  बाहर निकलते ही वह हाँफते हुए तेजी से साँसे लेने लगा।

 

 

 

 

सुकरात ने पूछा, ” जब तुम पानी के अंदर थे तो सबसे ज्यादा क्या चाहते थे ? ”

 

 

इसपर लडके ने कहा, ” सांस लेना। ”

 

 

सुकरात ने कहा, ” यही सफलता का रहस्य है। जब तुम सफलता को उतनी ही बुरी तरह से चाहोगे जितना कि तुम सांस चाहते थे तो वे तुम्हे जरूर मिल जायेगी।  यही सफलता का रहस्य है।

 

 

 

3- एक शहर में बने एक फ़ार्म  हाउस में दो घोड़े रहते थे। उनमें से एक घोड़ा अंधा था।  अंधा होने के बावजूद उस घोड़े के मालिक ने उसे हटाया नहीं था बल्कि उसे और भी सुरक्षित और आराम से रखता था।

 

 

 

मालिक ने दूसरे घोड़े के गले में घंटी बाँध  दी थी।  उस घंटी की आवाज सुनकर अंधा घोड़ा उसके पास पहुँच जाता था और उसके पीछे – पीछे बाड़े में घूमता था।

 

 

 

 

घंटी वाला घोड़ा भी अपने मित्र की परेशानी को समझता था और बीच – बीच में पीछे मुड़कर देखता कि कही मेरा मित्र रास्ते से भटक तो नहीं गया है। वह यह भी सुनिश्चित करता कि उसका मित्र सुरक्षित अपने स्थान पर पहुँच जाइये और उसके बाद ही वह अपनी जगह की तरफ जाता ।

 

 

 

 

Moral – मित्रों बाड़े के मालिक के तरह भगवान हमारे अंदर दोष या कमियां होने पर छोड़ नहीं देते हैं।  वे सदैव ही हमारा ख्याल रखते हैं और जब भी हमें जरुरत होती है तो किसी ना किसी को हमारी मदद के लिए भेज देते हैं। 

 

 

 

 

मित्रों यह Hindi Stories For Childrens With Moral Pdf आपको कैसी लगी जरूर बताएं और Hindi Stories For Children To Read की तरह की दूसरी कहानी के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और इसे शेयर  भी करें।

 

 

 

 

1- Moral Stories For Childrens in Hindi Written / स्नो व्हाइट की प्रेरणादायक कहानी

 

2- Moral Stories in Hindi For kids Pdf / Hindi Moral Stories For Kids Reading

 

3- New Moral Stories in Hindi 2020 / कैसे ख़त्म हुआ विश्वामित्र जी का अहंकार

 

4- Hindi Short Stories For Class 1 / नटखट परी को मिली सजा हिंदी कहानी

 

5- top 10 moral stories in Hindi

 

6- cow story in Hindi

 

7- goat story in Hindi

 

 

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *