Children Story in Hindi Written / Children Hindi Story Pdf

Children Story in Hindi एक जंगल में एक परी रहती थी। वह बहुत ही सुंदर और नेक दिल थी। कि वह हमेशा  जंगल के जीव -जंतुओं की रक्षा करती थी।

 

 

 

 

जब भी जंगल के किसी भी जीव = जंतु, जानवर , पशु , पक्षी किसी को कोई भी तकलीफ होती थी उनके लिए हमेशा आगे खड़ी रहती थी। इसी कारण जानवर भी उससे बहुत प्यार करते थे।

 

 

 

Children Story in Hindi Reading 

 

 

 

 

उसकी एक छोटी सी बेटी थी। उसका नाम था दिया। वह बहुत ही सुंदर थी। परी उसका खूब अच्छे से लालन पालन करती थी और उसके साथ खेलती रहती थी।

 

 

 

 

एक दिन की बात है,  परी को परी लोक से बुलावा आया लेकिन वह अपनी छोटी बेटी को हम नहीं ले जा सकती थी। उसने फैसला किया कि मैं अपनी छोटी बेटी को अपने साथ नहीं रख सकती तो इसे जंगल के जानवरों को सौप देना चाहिए। वे इसकी सुरक्षा करेंगे और ध्यान रखेंगे।

 

 

 

Children-story-Hindi-Pdf

 

 

 

 

यह सोचकर वह जानवरों के पास गई और उसने उसे निवेदन किया कि वह कुछ दिनों के लिए मेरी बेटी को अपने पास रखें। जानवर खुशी से मान गए और उसके बाद परी  परीलोक को चली गई।

 

 

 

 

उसकी बेटी  कभी शेर के साथ खेलती तो कभी हाथी के पीठ पर बैठकर सवारी करती।  जंगल के सभी जीव उसका खूब ख्याल रखते थे। एक दिन एक अनहोनी हो गयी।

 

 

 

समुद्र के किनारे वह  हिरण के साथ खेल रही थी और खेलते खेलते उसे अपनी मां की याद आने लगी और मां को याद करके रोने लगी।  तभी वहां पर कुछ शिकारी आ गए और शिकारी को देखते ही हिरन वहां से डर कर भाग गया।

 

 

 

 

वह बच्ची रोते-रोते बेहोश हो गई और समुद्र में गिर गई। तभी वहां से एक जलपरी गुजर रही थी।  उसकी नजर जब दिया पर पड़ी तो उसने उसे पकड़ लिया और सोचने  लगी, ” यह बच्ची समुद्र में कैसे गिर गयी और यह तो अभी बेहोश है। ”

 

 

 

 

उसने सोचा, ” समुद्र के तट पर जाकर देखती हूँ, शायद को इस मासूम बच्ची को ढूंढ रहा हो। ” यह सोचकर जलपरी ऊपर समुद्र के सतह पर आयी लेकिन यहां पर कोई नहीं था।

 

 

 

उसके बाद वह दिया को लेकर घर चली गयी और उसका उपचार करती है। जब दिया को होश आता है तो जलपरी उससे पूछती है, ”  तुम्हारे माता-पिता कौन है ? तुम यहां क्यों और कैसे आई ? तुम्हारे साथ क्या हुआ ? ”

 

 

 

 

लेकिन दिया वह उसे देखकर बहुत कुछ नहीं बोलती है।  धीरे-धीरे कुछ दिन गुजर जाते हैं और उसके बाद जंगल की परी परी लोक से वापस आ जाती है।

 

 

 

 

लेक्किन जब उसे उसकी बच्ची दिया नहीं मिलती है तो वह बहुत परेशान हो जाती है और वह सबसे उसके बारे में पूछती है कि दिया कहाँ गयी ? किसी के पास इसका कोई जवाब नहीं था।

 

 

 

 

 

तब एक पेड़ उसे सुझाव देता है क्यों न तुम समुद्र की तरफ जाकर देखो। इधर जलपरी रोज बच्ची के साथ समुद्र के सतह पर आती थी और देखती थी कोई इस बच्ची को ढूढने आया कि नहीं।  जलपरी को विश्वास था कि कभी ना कभी कोई इस बच्ची को ढूढते हुयी जरूर आएगा।

 

 

 

 

एक दिन की बात है।  जब जलपरी दिया को लेकर समुद्र के सतह पर आई उसी समय जंगल की परी भी वहां पर आ गई। जब उसने जलपरी की गोद में अपनी बच्ची दिया को देखा तो पने गुस्से पर कंट्रोल नहीं कर पाई और उसने अपनी शक्तियों से जलपरी पर हमला कर दिया।

 

 

 

 

अचानक हुए इस हमले से जलपरी घायल हो गयी।  यह देखकर दिया जोर – जोर से रोने लगी।  तब जंगल की पारी ने इसका कारण पूछा तो दिया ने पूरी घटना का विस्तार से वर्णन कर दिया।

 

 

 

 

इसके बाद जंगल की परी को बहुत पछतावा हुआ। उसने अपनी शक्तियों से जलपरी को ठीक कर दिया और माफी मांगी। इसपर जलपरी ने कहा, ” कोई बात नहीं है। किसी दूसरे के हाथ में अपने बच्चे को देखकर किसी को भी गुस्सा आ सकता है। ”

 

 

 

इसके बाद उन्होंने खूब बातें की और फिर जलपरी ने विदा लिया और उसके  बाद जंगल की परी भी जंगल लौट आयी। लेकिन उसे हर समय यह पछतावा हो रहा कि वह अपने गुस्से पर कंट्रोल नहीं कर पाई।

 

 

 

 

Moral – इसीलिए कहा गया है कि अपने  गुस्से पर कंट्रोल करना चाहिए।  बिना सोचे समझे कोई कार्य नहीं करना चाहिए।  इसका परिणाम बुरा ही होता है। 

 

 

 

 

 

मित्रों यह Children Story in Hindi To Read आपको कैसी लगी जरूर बतायेँ और Children Story in Hindi Written की तरह की दूसरी कहानी के लिए इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब जरूर करें और Children Story in Hindi Pdf को शेयर भी जरूर करें।

 

 

 

1 – Moral Stories For Childrens in Hindi Written / स्नो व्हाइट की प्रेरणादायक कहानी

 

2- Hindi Short Stories For Class 1 / नटखट परी को मिली सजा हिंदी कहानी

 

3- New Moral Stories in Hindi 2020 / कैसे ख़त्म हुआ विश्वामित्र जी का अहंकार

 

4- Moral Stories in Hindi For Class 3 Pdf / परी का खजाना मोरल हिंदी कहानी

 

5- Kahani in Hindi Pdf Download / बांके बिहारी के परम भक्त की कहानी हिंदी में

 

6- Goat story in Hindi

 

7- top 10 moral stories in Hindi

 

 

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *